Central India Outreach Blog

Posts Categorized Under Hindi

परमेश्‍वर त्रिएक है

Sunday, May 20, 2012

Category: Hindi, Theology

त्रिएकता का सिद्धान्‍त बाईबिल का एक अनोखी शिक्षा है। हालांकि “त्रिएकता” शब्‍द स्‍वयं बाईबिल में पाई नही जाती है, परन्‍तु यह शिक्षा स्‍पष्‍ट है। इस शिक्षा के कुछ मूल सच्‍चाइयां इस प्रकार से है: 1. परमेश्‍वर एक है और उसकी एकता त्रिएक है। दूसरे शब्‍दों में, पिता, पुत्र, और पवित्रात्‍मा तीन अलग अलग व्‍यक्तित्‍व तो है परन्‍तु तीन अलग अलग ईश्‍वर नही। परमेश्‍वर एक है। 2. परमेश्‍वरत्‍व का हर एक व्‍यक्ति परमेश्‍वर है। पिता परमेश्‍वर Continue reading…

प्रेम का परमेश्‍वर

Monday, March 26, 2012

Category: Hindi, Theology

1 यूहुन्‍ना 4:16 में बाईबिल हमें बताती है कि परमेश्‍वर प्रेम है। यह न केवल परमेश्‍वर के बारे में ही प्रकाशन नही बल्कि इस बात का भी प्रकाशन है कि प्रेम क्‍या है। इसका अर्थ यह है कि प्रेम पवित्र एवं परमेश्‍वर का स्‍वभाव है| इसीलिए शैतान भी प्रेम को ही अपने आक्रमण का निशाना बनाता है। जब बाईबिल बताती है कि परमेश्‍वर प्रेम है तो इसका मतलब यह है कि प्रेम वैसे ही अनंत Continue reading…

साल पर ताज भलाई का

Friday, January 13, 2012

Category: Hindi, New Year

तू साल को अपनी भलाई का ताज पहना देता है और तेरे नक्‍शे कदम तेल के फ्रावने से टपकते है। (भजन 65:11, उर्दु बाईबिल) दिसम्‍बर 31 को पृथ्‍वी के अपने वर्ष 2011 का अंतिम चक्र समाप्‍त करने पर संसार भर के घडियां एक के बाद एक पूरब से लेकर पश्चिम तक वर्ष 2012 के स्‍वागत के स्‍वर में जूंझ गए। चहरे खिल उठे और संसार के कोने कोने से एसएमएस और ईमेलों के बौछार रात Continue reading…

अद्‌भुत युक्ति करनेवाला

Sunday, December 25, 2011

Category: Christmas, Hindi

“उसका नाम अद्‌भुत युक्ति करनेवाला” (यशायह 9:6) जब यीशु 12 वर्ष के थे तो उनके माता पिता ने उनहे यरूशलेम लेकर गये जहां उनहोने शास्‍त्रियों और विद्वानों को अपने बुद्धि से अचंबित कर दिया। जब वे सार्वजनिक सेवकाई में उतरे तो लोग उनके शिक्षाओं से चकित हो जाते थे। वे कहते थे कि वे शास्‍त्रियों के समान नही परन्‍तु अधिकार के साथ सिखाते थे। उनके सामने अहंकारी मुंह बंद हो जाता था और चालाक जीभ Continue reading…

हमें एक पुत्र दिया गया है (यशायह 9:16)

Sunday, December 25, 2011

Category: Christmas, Hindi

हमें एक पुत्र दिया गया है (यशायह 9:16) वह बालक के रूप में पैदा हुआ परन्‍तु पुत्र के रूप में दिया गया। यीशु मरियम का पुत्र नही पर बालक ही था। वह परमेश्‍वर का पुत्र था। ‘दिया गया’ शब्‍द उसके ईश्‍वरत्‍व को दर्शाते है। इब्रानी शब्‍द नाथान जो दिया गया के लिए उपयोग किया गया, वह उददेश्‍यपूर्ण दान को दर्शाता है। पुत्र योजना, उददेश्‍य एवं नियुक्तिनानुसार दिया गया। 1 पुत्र का दिया जाना पूर्वनिर्धारित था Continue reading…

हमारे लिये एक बालक उत्पन्न हुआ (यशायह 9:6)

Sunday, December 25, 2011

Category: Christmas, Hindi

क्योंकि हमारे लिये एक बालक उत्पन्न हुआ, हमें एक पुत्र दिया गया है, और प्रभुता उसके कांधे पर होगी, और उसका नाम अद्‌भुत युक्ति करनेवाला पराक्रमी परमेश्वर, अनन्तकाल का पिता, और शान्ति का राजकुमार रखा जाएगा। (यशायह 9:6) रबिन्‍द्रनाथ टागोर ने एक बार कहा की हर एक बच्‍चा जो दुनिया में आता है वह यह संदेश के सा‍थ आता है कि परमेश्‍वर अब भी मनुष्‍य के साथ निरुत्‍साहित नही है। शिशु मानवता के लिए आशा Continue reading…

सृष्टिकर्ता परमेश्वर

Tuesday, December 6, 2011

Category: Hindi, Theology

एक नास्तिक के बारे में बताया जाता है की एक बार वह रेगिस्तान में किसी अरबी के साथ यात्रा कर रह था। कहा जाता है कि एक सुबह वह उठा और देखा कि अरबी दुआ कर रहा है। उसने उससे पूछा कि वह क्या कर रहा है, तो अरबी ने कहा कि वह ईश्वर से प्रार्थना कर रहा है। नास्तिक ने पूछा की क्या परमेश्वर के अस्तित्व का उसके पास कोई प्रमाण है, तो अरबी Continue reading…

परमेश्वर कौन है

Tuesday, November 15, 2011

Category: Hindi, Theology

अंग्रेजी लेखक जि. के. चेस्टेर्टन ने कहाँ “परमेश्वर सूर्य के समान है; उसे हम देख नहीं सक्ते और उसके बिना हम और किसी भी चीज को देख नहीं सक्ते। बाइबल के अनुसार वह अनंत राजा, अमर, एवम अदृश्य परमेश्वर है (1तिम 1:17। यूहन्ना 1:18 के अनुसार किसी ने भी परमेश्वर को कभी भी नही देखा। लेकिन यद्यपि परमेश्वर अदृश्य है और किसी ने उसे नही देखा तौभी वह सब से अधिक वास्तविक व्यक्तित्व है। यह Continue reading…